जीआईसी अखोड़ी, शिक्षकों की लापरवाही से अभिभावकों में आक्रोश, विद्यालय ताला बंधी का बन रहा विचार।

पवन नैथानी
टिहरी : घनसाली विधानसभा के आदर्श विद्यालय जीआईसी अखोड़ी में अभिभावक संघ की बैठक आहूत की गई। जिसमे कोरोना महामारी की तीसरी लहर से किस तरह से बचाव किया जाय व नए सत्र 2021-22 विद्यार्थी प्रवेश पर एवम उच्च पठन पाठन पर विचार किया गया।

शिक्षकों की अनुपस्तिथि जिसमे प्रवक्ता जीव विज्ञान सुरजन शाह, विज्ञान वर्ग में रसायन विज्ञान के प्रवक्ता सोहन सिंह रावत की लगातार अनुपस्तिथि पर विद्यालय में पठन पाठन पर छात्र छात्राओं को क्या नुकसान हो रहा है इसपर सभी अभिभावकों ने चर्चा की। जीव विज्ञान प्रवक्ता सुरजन शाह को उनकी लगातार अनुपस्तिथि पर बहस भी हुई जिसे सुनकर प्रवक्ता सुरजन बैठक को छोड़कर चले गए।

इससे एक बड़ा सवाल खड़ा होता है कि आखिर कब तक बच्चों का भविष्य अंधकार में डाला जाएगा। तीन भाजपा के प्रभारी मंत्रियों ने मुख्य शिक्षा अधिकारियो से सोहन सिंह रावत के संबंध में बात रखी कि उनका अटैचमेंट समाप्त किया जाने और जीआईसी अखोड़ी जहाँ से उनकी सैलरी निकाली जा रही है वहा वापस भेज दिया जाय या उनका परमानेंट स्थानांतरण कर अन्य शिक्षक की नियुक्ति रसायन विज्ञान में की जाय। लगातार स्थानीय विधायक, जिलाध्यक्ष, प्रमुख से बात करने के बाद भी स्कूल में शिक्षकों का अभाव हो रहा है।
वहीँ जीआईसी अखोड़ी के अभिभावक संघ अध्यक्ष विक्रम घनाता ने बताया कि सभी अभिभावकों ने पुनः 14 अगस्त को अभिभावक संघ की बैठक आहूत की है जिसमे विद्यालय के सभी अभिभावक की उपस्तिथि अनिवार्य है। उन्होंने बताया कि मुख्य शिक्षा अधिकारी के लिए अटैचमेंट शिक्षक के लिए सर्व सहमति से प्रस्ताव बनाया गया है जिसपर अगले शानिवार को सभी स्थानीय प्रतिनिधियों की मोहर लगनी है।


अभिभावक संघ अध्यक्ष विक्रम ने बताया कि सदस्य जिलापंचायत अखोड़ी रघुवीर सिंह सजवाण द्वारा बार-बार विदयालय में शिक्षक को वापस भेजने पर चर्चा की गई है लेकिन हालात सुधारने का नाम नही ले रही हैं जिसे देखते हुए सभी अभिभावकों ने 1 सितंबर से विद्यालय गेट पर विभाग की लापरवाही को देखते हुए एवं शिक्षको की कमी को देखते हुए सभी अभिभावकों द्वारा विद्यालय ताला बंधी पर विचार किया है। जिसपर शानिवार 14 सितंबर को निर्णय लिया जाएगा।

118 thoughts on “जीआईसी अखोड़ी, शिक्षकों की लापरवाही से अभिभावकों में आक्रोश, विद्यालय ताला बंधी का बन रहा विचार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *