द्वितीय दिवस की लीला में विश्वामित्र-दशरथ संवाद,ताडिका प्रसंग,ताडिका वध,सुबाहु वध,मारीच व अहिल्या उद्वार,गौरी पूजन तक लीला का मंचन किया गया ।

श्री भुवनेश्वर महादेव मंदिर एवं रामलीला समिति कर्नाटक खोला अल्मोडा में रामलीला मंचन के द्वितीय दिवस दिनांक 27.09.2022 को ताडिका,सुबाहु-मारीच वध,अहिल्या उद्वार,गौरी पूजन का सफल एवं भव्य मंचन किया गया। द्वितीय दिवस की रामलीला का शुभारम्भ मुख्य अतिथि अरूण बर्मा प्रतिष्ठित व्यवसायी / अध्यक्ष जिला होटल एसोसिएश अल्मोड़ा एवं विशिष्ट अतिथि मन्नु पालनी युवा व्यवसायी, राहुल बोरा होटल व्यवसाई द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया । वरिष्ठजनों द्वारा अतिथियों को अंगवस्त्र भेंट कर प्रतीक चिन्ह प्रदान करते हुये उनका स्वागत किया गया । अपने सम्बोधन में मुख्य अतिथि ने कहा कि कर्नाटक खोला की रामलीला का मंचन उत्कृष्ण श्रेणी का है जिसे देखने वे प्रत्येक वर्ष इस मंच पर उपस्थित होते हैं । उन्होंने कहा कि जिस प्रकार महिलाओं/बालिकाओं को समाज की मुख्य धारा में जोडने उन्हें आगे बढाने,रामलीला मंचन में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिये समिति के संरक्षक बिट्टू कर्नाटक एवं समस्त पदाधिकारियों द्वारा जो निरन्तर प्रयास किया जा रहा है वह पूरे उत्तराखण्ड में अति सराहनीय है ।

द्वितीय दिवस की लीला में विश्वामित्र-दशरथ संवाद,ताडिका प्रसंग,ताडिका वध,सुबाहु वध,मारीच व अहिल्या उद्वार,गौरी पूजन तक लीला का मंचन किया गया । राम की भूमिका में दिव्या पाटनी,सीता-रश्मि काण्डपाल,लक्ष्मण -किरन कोरंगा,विश्वामित्र-बद्री प्रसाद कर्नाटक,दशरथ-मनीष तिवारी,ताडिका-कमल जोशी एवं हिमांशी अधिकारी,सुबाहु-कमलेश बिष्ट,मारीच-गौरव जोशी,अहिल्या-निधि रावत,गौरी-अंशु नेगी आदि ने अपने मन मोहक अभिनय से दर्शकों को भाव विभोर कर दिया

 

अनेकों वर्षो से विश्वामित्र,दशरथ,ताडिका का अभिनय कर रहे मझे हुये कलाकारों ने अपनी अनूपम अभिनय क्षमता का प्रर्दशन कर सभी दर्शकों को बांधे रखा । विशेषकर ताडिका प्रसंग ने रामलीला मैदान में मौजूद प्रत्येक दर्शक को रोमांचित कर दिया । मुख्य अतिथि तथा विशिष्ट अतिथियों ने देर रात्रि तक सम्पूर्ण रामलीला मंचन का आनन्द लिया गया । विशेषकर विश्वामित्र-दशरथ संवाद तथा राम,लक्ष्मण-ताडिका संवाद ने मुख्य अतिथि सहित रामलीला मैदान में उपस्थित प्रत्येक व्यक्ति का मन मोह लिया । कार्यक्रम का संचालन हर्षिता तिवारी एवं गितांजलि पाण्डे द्वारा संयुक्त रूप से किया गया

60 thoughts on “द्वितीय दिवस की लीला में विश्वामित्र-दशरथ संवाद,ताडिका प्रसंग,ताडिका वध,सुबाहु वध,मारीच व अहिल्या उद्वार,गौरी पूजन तक लीला का मंचन किया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *