पंडित शिवराम जी ने हिंदी को अपनी अभिव्यक्ति का माध्यम बनाया।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को आई.आर.डी.टी सभागार, सर्वे चौक, देहरादून में जौनसार बाबर के प्रथम कवि पं. शिवराम जी द्वारा रचित काव्य संग्रह ’रमणी जौनसार ’ एवं पं. शिवराम शर्मा जी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर केन्द्रित ग्रंथ ’जौनसार बावर के जननायक पं. शिवराम’ पुस्तक का विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि चकराता क्षेत्र में पंडित शिवराम शर्मा जी मूर्ति लगाये जाने के लिए प्रस्ताव आयेगा तो उस क्षेत्र में उनकी मूर्ति स्थापित की जायेगी। उनके द्वारा लिखी गई कविताओं का संग्रह कर संजोया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने पं. शिवराम जी की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन करते हुए कहा कि पं. शिवराम जी की कविता संकलनों से नई पीढ़ी को व्यापक रूप से पुराने गौरवशाली इतिहास के बारे में पता चलेगा। पंडित शिवराम जी ने हिंदी को अपनी अभिव्यक्ति का माध्यम बनाया। उन्होंने अपना जीवन समाजिक कार्यों के लिए समर्पित किया एवं कविताओं के माध्यम से समाज में अलख जगाने का कार्य किया। उनके संघर्ष एवं उनके द्वारा किए गए कार्यों को आने वाली पीढ़ियों को अपनी स्मृति में लाना जरूरी है। उन्होंने कहा उनकी रचनाओं के माध्यम से अन्य महापुरुषों से भी परिचय होता है।

इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, केबिनेट मंत्री श्री प्रेमचंद्र अग्रवाल, श्री गणेश जोशी,राज्यसभा सांसद श्री नरेश बंसल, विधायक श्रीमती सविता कपूर , श्री मुन्ना सिंह चौहान, पद्मश्री श्री लीलाधर जगूड़ी, एससी-एसटी आयोग के अध्यक्ष श्री मूरत राम शर्मा, श्री अनिल गोयल, श्री रामशरण नौटियाल, श्री प्रताप सिंह रावत, पद्मश्री श्री प्रेमचन्द शर्मा आदि उपस्थित थे।

2 thoughts on “पंडित शिवराम जी ने हिंदी को अपनी अभिव्यक्ति का माध्यम बनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *